7th Pay Commission Salary Hike: 5% तक बढ़ेगा DA, नए फॉर्मूले से बदल जाएगा कैलकुलेशन

7th Pay Commission: महंगाई भत्ते (DA) को लेकर एक नया अपडेट आया है। जुलाई 2022 के लिए महंगाई भत्ता (डीए) बढ़ाया जाना है। महंगाई और औद्योगिक सूचकांक पर नजर डालें तो महंगाई भत्ते में करीब 5 फीसदी की बढ़ोतरी होने की बात कही जा रही है। साल 2019 के बाद यह पहला मौका होगा जब महंगाई भत्ते में 5 फीसदी की बढ़ोतरी होगी।

वर्तमान में केंद्रीय कर्मचारियों को 34 प्रतिशत महंगाई भत्ता मिलता है। पहले इसे बढ़ाकर 38 प्रतिशत करने की उम्मीद थी। लेकिन अब माना जा रहा है कि महंगाई भत्ते में 5 प्रतिशत की बढ़ोतरी की जाएगी। यह अनुमान अप्रैल महीने के अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आंकड़ों को देखते हुए लगाया जा रहा है। लेकिन, ट्विस्ट यह है कि जुलाई में DA कैलकुलेशन का फॉर्मूला बदल जाएगा:

नए फॉर्मूले से कितना बढ़ जाएगा डीए?

केंद्रीय कर्मचारियों का डीए अभी 34 फीसदी है। ऐसे में अब अगले महंगाई भत्ते में बदलाव की चर्चा है। AICPI इंडेक्स में लगातार उछाल आ रहा है। लेकिन, महंगाई भत्ते की गणना के लिए नया फॉर्मूला लागू होगा। ऐसे में यह भी भ्रम है कि क्या महंगाई भत्ता वाकई इतना बढ़ जाएगा?

7th Pay Commission

dearness allowance किस लिए मिलता है

महंगाई भत्ता केंद्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों को उनके जीवन स्तर की लागत में सुधार के लिए दिया जाता है। यह भत्ता वेतन संरचना का एक हिस्सा है, इसलिए महंगाई बढ़ने के बाद भी कर्मचारी के जीवन स्तर में कोई अंतर नहीं होना चाहिए। सरकारी कर्मचारियों, सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों को महंगाई भत्ता (डीए) दिया जाता है और पेंशनभोगियों को महंगाई राहत दी जाती है।

नए फॉर्मूला की गणना होगी

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने महंगाई भत्ते को लेकर गणना के फार्मूले में बदलाव किया है। श्रम मंत्रालय ने महंगाई भत्ता (DA Calculation) के आधार वर्ष 2016 में बदलाव किया है। वेतन दर सूचकांक (WRI-Wage Rate Index) की एक नई श्रृंखला जारी की गई है। श्रम मंत्रालय ने कहा कि आधार वर्ष 2016=100 के साथ WRI की नई श्रृंखला आधार वर्ष 1963-65 की पुरानी श्रृंखला को प्रतिस्थापित करेगी।

इस तरह तय होगा महंगाई भत्ता

महंगाई भत्ते की राशि की गणना 7th Pay Commission की वर्तमान महंगाई भत्ते की दर को मूल वेतन से गुणा करके की जाती है। प्रतिशत की वर्तमान दर 12% है, यदि आपका मूल वेतन 56,900 डीए (56,900 x12)/100 रुपये है। मंहगाई भत्ते का प्रतिशत = पिछले 12 महीनों के CPI का औसत – 115.76। अब जो रकम आएगी उसे 115.76 से विभाजित किया जाएगा। आने वाले अंक को 100 से गुणा किया जाएगा।

वेतन की गणना

7वें वेतन आयोग (7th Pay Commission Salary hike) के तहत वेतन की गणना के लिए कर्मचारी के मूल वेतन पर डीए की गणना की जानी है। मान लीजिए एक केंद्रीय कर्मचारी का न्यूनतम मूल वेतन 25,000 रुपये है, तो उसका डीए 25000 का 34 फीसदी होगा। 25,000 रुपये का 34% यानी टोटल 8500 रुपये होगा. यह एक उदाहरण है. इसी तरह अन्य वेतन संरचना वाले लोग भी अपने मूल वेतन के हिसाब से इसकी गणना कर सकते हैं।

मंहगाई भत्ते पर लगेगा टैक्स

महंगाई भत्ता पूरी तरह टैक्सेबल है। भारत में इनकम टैक्स नियमों के तहत इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) में महंगाई भत्ते के बारे में अलग से जानकारी देनी होती है। यानी महंगाई भत्ते के नाम पर मिलने वाली रकम पर टैक्स लगता है और उस पर टैक्स देना होगा.

महंगाई भत्ते कितने प्रकार के होते हैं?

महंगाई भत्ता (डीए) दो तरह का होता है। पहला औद्योगिक महंगाई भत्ता और दूसरा परिवर्तनशील महंगाई भत्ता। औद्योगिक महंगाई भत्ता हर तीन महीने में संशोधित होता है। ये केंद्र सरकार के पब्लिक सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए है. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आधार पर इसकी गणना की जाती है। परिवर्तनीय महंगाई भत्ता हर 6 महीने में संशोधित होता है। परिवर्तनीय महंगाई भत्ते की गणना उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आधार पर भी की जाती है।

राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं, परीक्षाओं, नवीनतम समाचारों से संबंधित जानकारी के लिए sarkariiyojana.in को बुकमार्क करें।

Leave a Comment

close button