Saving Scheme: वरिष्ठ नागरिकों के लिए ये है सबसे दमदार योजना, मिलता है बंपर रिटर्न

अगर आप भी एक वरिष्ठ नागरिक हैं, तो आपको यह जानकर खुशी होगी कि हम आपको एक ऐसी योजना (Saving Scheme) के बारे में बताने जा रहे हैं जो जोखिम भरा नहीं है और जिससे आपकी आर्थिक जरूरतें पूरी की जा सकें। आइए जानते हैं इस धमाकेदार स्कीम के बारे में खबरों में।

Saving Scheme

आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आपके देश में औसत आयु धीरे-धीरे बढ़ रही है। ऐसे में सीनियर सिटीजन की भी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। उनकी आर्थिक समस्याओं को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2004 में वरिष्ठ नागरिकों की बचत योजना शुरू की गई थी।

यह एक ऐसी योजना है जिसकी सहायता से उनकी आर्थिक जरूरतों को पूरा करने का प्रयास किया जाता है। इस स्मॉल सेविंग स्कीम में जीरो रिस्क है और फिलहाल इसमें 7.4 फीसदी का बेहतरीन रिटर्न मिल रहा है, जानिए इस दमदार स्कीम के बारे में:

वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, जिसे SCSS भी कहा जाता है, पांच साल में परिपक्व होती है। ब्याज वार्षिक रूप से अर्जित किया जाता है, लेकिन ब्याज का भुगतान तिमाही आधार पर किया जाता है। इसे सिंगल या ज्वाइंट अकाउंट होल्डर्स भी खोल सकते हैं। इस योजना का नामांकन डाकघर या बैंक में कराया जा सकता है। इस योजना का लाभ लेने के लिए कम से कम 60 साल की उम्र होना जरूरी है। खाता धारक एक भारतीय नागरिक होना चाहिए। वह HUF या NRI नहीं हो सकता है।

7.4% ब्याज

ब्याज दर की बात करें तो सितंबर 2022 की तिमाही के लिए सालाना आधार पर 7.4 फीसदी ब्याज का भुगतान किया जा रहा है. ब्याज दर पर फैसला हर तिमाही वित्त मंत्रालय करता है। टैक्स की बात करें तो इस स्कीम में निवेश करने पर एक वित्त वर्ष में सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये की छूट मिलती है। कम से कम 1000 रुपये और अधिकतम 15 लाख रुपये का निवेश इस योजना में कम से कम एक हजार रुपये का निवेश किया जा सकता है। अधिकतम निवेश 15 लाख रुपये किया जा सकता है। आप इससे ज्यादा इस योजना में जमा नहीं कर सकते। इस योजना के तहत एकमुश्त राशि जमा की जाती है। जैसा कि पहले बताया गया है, इसमें निवेश करने पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये की कटौती का फायदा मिलता है। हालांकि, ब्याज पर कर लगाया जाता है।

कम से कम 1000 रुपये और अधिकतम 15 लाख रुपये का निवेश

इस योजना में कम से कम एक हजार रुपये का निवेश किया जा सकता है। अधिकतम निवेश 15 लाख रुपये किया जा सकता है। आप इससे ज्यादा इस योजना में जमा नहीं कर सकते। इस योजना के तहत एकमुश्त राशि जमा की जाती है। जैसा कि पहले बताया गया है, इसमें निवेश करने पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये की कटौती का फायदा मिलता है। हालांकि, ब्याज पर कर लगाया जाता है।

50 हजार तक के ब्याज पर टैक्स नहीं

एक वित्त वर्ष में 50,000 रुपये तक की ब्याज आय पर वरिष्ठ नागरिकों को धारा 80TTB के तहत कर राहत मिलती है। ऐसे में अगर SCSS से सालाना 50 हजार रुपये तक की ब्याज आय होती है तो कोई टैक्स नहीं लगेगा. यदि ब्याज इससे अधिक है, तो यह कर के दायरे में आता है।

HOMEPAGEPM KISAN YOJANAA

Leave a Comment

close button